Kalan Manzil, Agra: Mirza Ghalib ‘s childhood home

, Sher o Sukhan

Via Asad Zaidi 

एक पुरानी तस्वीर : आगरे में मिर्ज़ा ग़ालिब का घर (मोहल्ला कलाँ महल), जहाँ १७९७ में उनका जन्म हुआ और उनका बचपन और लड़कपन गुज़रा। आज इस घर तक कोई जाना चाहे तो कैसे जाए? लगता है आगरे में कोई नहीं जानता वह घर कहाँ है, या कि कभी था भी! 

बहरहाल, यह अकेली जायदाद है जिसके एक टुकड़े पर मिर्ज़ा का हक़ बनता था, गो मिर्ज़ा ने आजीवन दिल्ली में कर्ज़दार और किरायेदार रहकर इस दुनिया को ख़ैरबाद कहना बेहतर जाना।

गर मुसीबत थी तो ग़ुरबत में उठा लेता ‘असद’

मेरी दिल्ली ही में होनी थी ये ख़्वारी हाए हाए
* * * 

An old photograph: Mirza Ghalib’s house in Kalan Mahal area, Agra, where he was born in 1797 and spent his childhood and part of adolescence. People in Agra don’t seem to be aware of its existence or location. This is the only property part of which Mirza could call his own, although he preferred to live in Delhi as an insecure tenant all his life.

Leave a Reply

*